in

इतरलिंगी होने का अर्थ जानिए. क्या आपको सिर्फ स्त्रीलिंग, पुल्लिंग हि मालूम थे?

Understanding the meaning of being Transgender
Understanding the meaning of being Transgender

You Can Also Read This Story In: enEnglish (English)

दुनिया की अधिकतर आबादी इतरलिंगी है – अर्थात वे अपने जन्म के लिंग से सहमत होते हैं और उसी का अनुभव करते हैं। तो जब डॉक्टर कहते हैं, “यह एक लड़का है” या “यह एक लड़की है”, तब बच्चा अपने अंदर उसी लिंग को महसूस करता है। उनकी भावनाएं, अहसास एवं अंतःस्राव उनकी शारीरिक रचना के अनुकूल हैं। जबकि कुछ अन्य मामलों में, भावनाएं और आंतरिक कारक व्यक्ति को अपने शरीर का समर्थन नही करने देते। जब दुनिया का कहना है कि उन्हे उस तरह से रहना चाहिए जैसा उनको लग रहा है, वे स्वयं को भीतर से विपरीत पाते हैं (आवाज, व्यवहार, भावना, आकर्षण और यौन वरीयता), और इसलिए अक्सर ऐसे लोग भ्रमित या ‘असामान्य’ कहलाते हैं। विपरीतलिंगी होना एक बहुत व्यापक शब्द है जो उन लोगों की ओर संकेत करता है जिन्हे अपना शारीरिक लिंग का सही अनुभव नहीं होता। यह शल्य चिकित्सा या ऐसी बाहरी सुविधाओं के बारे में या यौन अभिविन्यास या किसी के कपड़े के बारे में नहीं है, यह बात है कि किसी को अंदर से कैसा लगता है, जो कैसे दुनिया के मत से अलग है। वे लिंग गैर-अनुरूप, या समलैंगिक लोग के रूप में संदर्भित होते हैं, क्योंकि वे सामान्य लोगों से भिन्न महसूस करते हैं।

उनके व्यवहार और विशेषताओं की पहचान सामाजिक रूप से एक बहुत ही पक्षपाती माध्यम से की जाती है जिससे वह मर्दाना, जनानी, दोनों या दोनो मे से कोई नहीं हो। वे अन्यथा सामान्य रहते हैं, लेकिन उनको संदर्भित करने का तरीका उनको परेशान कर देता है – एक व्यक्ति एक पौरुष लिंग के साथ पैदा हुआ है लेकिन एक बहुत स्त्रैण दृष्टिकोण रखता हो और संभवतः एक गर्भाशय या अंडाशय की जोड़ी भी उसके अंदर हो सकती है, जो बाहरी दुनिया को नहीं। इस प्रकार उसे “पुरुष” कहलाने में विपत्ति होती है क्योंकि उसकी आंतरिकता यह नहीं मानती। एक सीधा, समलैंगिक, उभयलिंगी, अलैंगिक व्यक्ति भी विपरीतलिंगी व्यक्ति हो सकता है, या एक परंपरागत रूप से अज्ञात लिंग को ओर आकर्षित हो सकता है, और इसलिए यह कहा जा सकता है कि एक “विपरीत” तो उसके यौन उन्मुखीकरण के कारण होता है। वे लिंग पहचान को ऐसे सामाजिक मानदंडों के अनुरूप करने की जरूरत महसूस नहीं करते जो काफी हद तक सामूहिक रचना है न कि जैविक – ये मानदंड इस बात पर आधारित है की समाज मे एक पुरुष या एक महिला या एक तीसरे वर्ग का व्यवहार कैसा होना चाहिए, बजाय इसके की वह व्यक्ति क्या महसूस करता है।

लगभग ५७% विपरीतलिंगी बच्चों को इस डर से पारिवारिक अस्वीकृति का सामना करना पड़ता है कि यह सच्चाई बाहर आने पर उस परिवार पर कलंक न लग जाए। आजकल अधिकाधिक लोगों को अपनी सही लैंगिक पहचान को बनाए रखने के लिए शल्य चिकित्सा की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है, हालांकि उनमें से एक हिस्सा अभी भी खुद को सामाजिक मानदंडों में स्वीकृति दिलवाने के लिए संघर्ष कर रहा है। समाज का इनके प्रति भेदभाव कम किया जा सकता है अगर यह समझ लिया जाए कि विपरीतलिंगी होना इन लोगों को दोष नहीं हैं – यह जन्म से तय होता है न कि विकल्प से, हालांकि वे उनके लैंगिक पहचान को स्वीकार करके अपने जीवन का सुधार सकते हैं।

Written by Girlopedia Staff

Techie by profession blogger by hobby, founder of Girlopedia.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to Top
Close

Log In

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

To use social login you have to agree with the storage and handling of your data by this website.

Close